स्पंदन -15 == नवम्बर 10-फरवरी 11 == बुन्देलखण्ड विशेष

सम्पादकीय


बुन्देली के प्रति जागरूकता आवश्यक



आलेख


बुन्देलखण्ड के स्थान-नामों में लोक संस्कृति/डॉ0 कामिनी


मयंक जी के गीतों में राष्ट्रीयता/डॉ0 सुरेन्द्र प्रताप सिंह अमित


बुन्देली कहावतों में सामाजिक पक्ष/डॉ0 अवधेश चंसौलिया



काव्य-प्रसून


बुन्देली कविता/रानी की तलवार/अजीत श्रीवास्तव


बुन्देली कविता/बुन्देलखण्ड-दर्शन/डॉ0 ओमप्रकाश बरसैयाँ ऊँकार


बुन्देली कविता/कहौ जू कैसें इतै निवायं/एल0एम0 चौरसिया


बुन्देली कविता/जुँदईया/साकेत सुमनचतुर्वेदी


बुन्देली दोहे/रामचरण शर्मा मधुकर


बुन्देली कविता/शकुन गांव के/डॉ0 महावीर प्रसाद चंसौलिया


बुन्देली ग़ज़ल/आ गओ बसन्त/श्याम बहादुर श्रीवास्तव


बुन्देली कविता/खजुराये के चितेरे/भारतेन्दु अरजरिया इन्दु


व्यंग्य गीत/इन बातन में कछु धरो नइयां/गोविन्द यदुवंशी



कथा वीथिका


बुन्देली कहानी/विरासत/डॉ0 रामनारायण शर्मा


बुन्देली कहानी/अहाने के बहाने/हरिविष्णु अवस्थी


बुन्देली लोक कथा/लालच कबहुँ न कीजिए, लालच विपदा-मूर/पं0 गुणसागर सत्यार्थी


बुन्देली कहानी/दोऊ पच्छ: पूनों अमास/डॉ0 लखनलाल पाल



वि‍शेष


आमनू-सामनू/बेटा को मताई द्वारा लऔ भऔ इन्टरव्यू/दिनेश चन्द्र दुबे



युवा स्वर


सिर्फ तुम्हारी हो रोशनी/हेमंत



पुस्तक समीक्षा


नौंनी लगे बुन्देली/एन0डी0 सोनी


  © Free Blogger Templates Photoblog III by Ourblogtemplates.com 2008

Back to TOP